प्रोग्रामर कैसे बने?How to Become a Programmer?

आज के इस आर्टिकल हम में जानेंगे कि कैसे प्रोग्रामर बनें ?

प्रोग्रामर क्या होता है ?

 प्रोग्रामर कैसे बने?How to Become a Programmer?
आजकल ऐसा कोई वर्क नहीं है जो कम्प्यूटर् से नहीं किया जाता हो , हम चरों तरफ से कंप्यूटर व  टेक्नोलॉजी से घिरे हुए हैं।    ऐसा कोई क्षेत्र या विभाग नहीं है जिसमें कंप्यूटर से वर्क न किया जाता हो। जैसा कि हम सभी जानते हैं कंप्यूटर एक हार्डवेयर होता है जिसे चलाने के लिए या इस पर वर्क करने के लिए किसी न किसी सॉफ्टवेयर की जरुरत होती है।  
 
 
जितने भी सॉफ्टवेयर होते हैं या जिन्हें लोग यूज़ करते हैं उन्हें एक निश्चित प्रक्रिया या प्रोसेस के अंतरर्गत बनाया जाता है। जिसे हम सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग कहते हैं। इसमें किसी भी प्रकार के सॉफ्टवेयर को बनाने में विभिन्न स्टेप होते हैं। जो इस प्रकार हैं :
 
1. Analysis
2. Design 
3. Coding (Programming )
4. Testing 
5. Deployment 
6. Support & Maintenance
 
अर्थात सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के थर्ड  स्टेप में Coding (Programming ) आता है जिसका मतलब होता है सॉफ्टवेयर Development के लिए किसी निश्चित कंप्यूटर language में सॉफ्टवेयर बनाने का कोड लिखना। क्योंकि सॉफ्टवेयर  की एक थ्योरी यह भी है कि सॉफ्टवेयर कंप्यूटर भाषा में लिखे गए स्टेटमेंट के समूहों जिन्हे हम प्रोग्राम कहते हैं वह उन प्रोग्राम का समूह होता है।  
 
जो भी व्यक्ति कंप्यूटर भाषा का प्रयोग करके कंप्यूटर के प्रोग्राम को लिखता है उसे ही “प्रोग्रामर” कहते हैं। 
 

आइये अब जानते हैं कि प्रोग्रामर कैसे बनते हैं ?How to Become a Programmer?

 
एक अच्छा और सक्सेस प्रोग्रामर बनने के लिए – प्रोग्रामिंग भाषा का जिसका आप प्रयोग करने वाले हैं उसका syntax का एक्स्प्लोर ज्ञान होना आवश्यक है। और यह सिंटेक्स तो इस प्रग्रामिंग का मात्र एक छोटा सा हिस्सा होता है। सिर्फ रन करने के लिए प्रोग्राम लिखना काफी नहीं होता है। इसका परिणाम महत्वपूर्ण रखता है जो उम्म्द के मुताबिक हो। 
 
मतलब जो प्रोग्राम कंप्यूटर के अर्थ को सही और स्पष्ट तरीके से समझा  सके वही  अच्छा प्रोग्राम माना जा सकता है। एक अच्छे प्रोग्रामर की यही खासियत होती है कि उसका लिखा हुआ प्रोग्राम दुसरा प्रोग्रामर आसानी से समझ सके। ज़्यादातर प्रोग्राम वर्क टीम के साथ किया जाता है। 
 
लेकिन कोई individual भी निर्माण करता है तो उसे भी अच्छी प्रकार पढ़ व समझ कर तैयार करता है जिसमें काफी टाइम और स्टेप भी लगते हैं अच्छी तरह से  सेट करके लिखा गया प्रोग्राम लम्बे समय के लिए उपयोगी साबित होता है। इस बात का ख्याल प्रोग्रामर को सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट करते समय रखना होता है।
 

आइये अब जानते हैं कि प्रोग्रामर बनने के तरीके या  Tips कोन कौन से हैं –  

 

Tips For Becoming a Programmer :

 
1.कंप्यूटर  की ट्रेंडिंग भाषा की अच्छी पकड और समझ होना आवश्यक है।     
2 अच्छी तार्किक क्षमता होना आवश्यक है। 
3. कंप्यूटर की कम से कम बेसिक जानकारी होना जरुरी है। 
4 . कंप्यूटर फ्लोचार्ट की जानकारी होना आवश्यक है। 
5 . Decision लेने की अच्छी क्षमता होना आवश्यक है। 
6. English की भी अच्छी समझ होना आवश्यक है। 
 
 

प्रोग्रामर की सैलरी कितनी होती है ?How Much Salary Of Programmer?

 
किसी भी multinational company या प्रतिष्ठित कंपनी मे एक प्रोग्रामर की अच्छी सैलरी होती है। प्रत्येक प्रोग्रामर की सैलरी उसके नॉलेज और स्किल के साथ साथ अनुभव के आधार पर निश्चित की जाती है। और यदि फिर भी एक  प्रोग्रामर की सैलरी की बात करें तो उसकी सैलरी लगभग 25000 से शुरू होती है जो लाखों तक होती है। और यह आपके काम करने के तरीके और अनुभव के साथ साथ बढ़ती जाती है। 
 
एक प्रोग्रम्मेर के रूप में कार्य काफी चुनौतीपूर्ण होता है। प्रोग्राम के लिखने का तरीका और समय पर काम पूरा करने का गुण , और अपने बॉस से अच्छे सम्बन्ध बनाकर रखने के आदि गुण ही  सफल प्रोग्रामर के लक्षण होते हैं।समय के साथ स्वयं को new टेक्नोलॉजी के साथ अपडेट करते रहना,नित्य कुछ न कुछ सीखना और creativity करना भी एक प्रोग्रामर का मुख्य गुण होता है। यदि आप में यह सब गुण है तो समझिये आप एक अच्छे और सफल प्रोग्रामर बन सकते हैं। 
 
 
तो आशा करते हैं आपको आज का यह आर्टिकल How to Become a Programmer? पसंद आया होगा और आज आपने सीखा होगा की कैसे एक कंप्यूटर प्रोग्रामर या सॉफ्टवेयर डेवलपर बनते हैं। कृपया अपने दोस्तों और रिलेटिव के साथ  शेयर करें और वीडियो देखने के लिए नीचे  दी गयी लिंक करें तथा सब्सक्राइब करना न भूलें।   https://youtu.be/gqm2g7JATus