International Yoga Day – June 21, 2020 अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

International Yoga Day – June 21, 2020 अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

 

दोस्तों, जैसा कि  आप सभी जानते हैं कि  International Yoga Day  21 जून को मनाया जाता है, अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस  physical and spiritual prowess का Celebration है जिसे योग के रूप में  विश्व स्तर  पर मनाया जाता  है। जबकि यह व्यायाम और healthy  activity का एक महत्वपूर्ण source है, लाखों लोग दैनिक आधार पर इसमें शामिल होते हैं और अभ्यास करते हैं। कई लोगों के लिए, यह वो दिनचर्या है जो  शरीर, मन और आत्मा को जोड़ने का एक तरीका है जो सदियों से भारत की धरती पर हमेशा से मौजूद है।

 
 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का इतिहास HISTORY OF INTERNATIONAL YOGA DAY

 
 
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए, दुनिया भर के लोग अपनी योगा मैट निकालने के लिए अब तैयार हैं और व्यायाम शुरू कर रहे हैं, लेकिन उन में से शायद ही कुछ लोगों को इस बात की जानकारी होगी कि योग सदियों से चला आ रहा है यह कोई आज की रिसर्च नहीं है।
 
 
योग को एक प्राचीन प्रथा के रूप में माना जाता है जिसकी उत्पत्ति भारत में 5,000 साल पहले हुई थी। योग को मन, शरीर और आत्मा को आत्मज्ञान में एक साथ करीब लाने के लिए एक नियम  के रूप में विकसित किया गया था। जो धीरे धीरे लोगों के अभ्यास में आने लगा और आत्मज्ञानी लोग इसे अपनी दैनिकचर्या के रूप में शामिल करने लगे। जैसे ही यह अभ्यास पश्चिम में लोकप्रिय हो गया, यह एक व्यायाम और विश्राम विधि के रूप में लोकप्रिय हो गया, जिसमें शरीर की सामान्य सुरक्षा , शारीरिक चोटों , शारीरिक बिमारियों और पुराने दर्द को कम करने में मदद करने के लिए भी इसका अधिक मात्रा में प्रचार होने लगा।
 
 

दोस्तों अब जानते हैं योग दिवस कैसे शुरू हुआ

 
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का विचार पहली बार 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण के दौरान हमारे देश के माननीय प्रिय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा प्रस्तावित किया गया था, जबकि 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में स्थापित करने का संकल्प भारत के राजदूत, असोक कुमार मुखर्जी द्वारा पेश किया गया था।
 
 
 
दोस्तों 21 जून की तारीख को इसलिए चुना गया क्योंकि यह Summer Solstice है, मतलब यह वो दिन होता है , जिस दिन वर्ष के हर दूसरे दिन सबसे अधिक सूर्य निकलता है। कुल मिलाकर, इस दिवस को 177 देशों से समर्थन मिला। किसी भी संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव के लिए यह अब तक का सबसे अधिक co-sponsors माना जाता है। इस प्रकार से 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में घोषित किया गया।
 
 
यह भारत के लिए सबसे बड़ी उपलब्धि मानी जाती है इससे पहले भारत की बहुत सी बातों को नाकारा जाता रहा है। और  दुनिया के बहुत से देश हमेशा मज़ाक के रूप में भारत की तमाम हिन्दू धार्मिक गतिविधियों मानते रहे हैं। लेकिन  अब ऐसा ऐसा नहीं है दुनिया के लोग भारत के योग , अध्यात्मज्ञान , रीतियां आदि को वैज्ञानिक आधार पर उन्हें सत्य मानने लगा है, और यही नहीं दोस्तों आप लोगों ने देखा होगा कि लोग सहज इसे अपना भी रहे हैं। अभी इस महामारी के कारण  ,भारत के रिवाज- रीती आदि की तो और भी खूब सराहना हुई है और भारत की संस्कृति पर गर्व भी कर रहे हैं।
 
 
 
दुनिया के पहले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून, 2015 को मनाया गया।  जिसमें प्रधान मंत्री मोदी, और दुनिया भर के कई अन्य हाई-प्रोफाइल राजनीतिक हस्तियों सहित लगभग 36,000 लोगों ने नई दिल्ली में 35 मिनट के लिए 21 आसन (योग आसन) किए और इसी के साथ इस दिन से  दुनिया भर में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून से मनाया जाने लगा ।
 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस  के महत्वपूर्ण  पल

 
 
21 जून 2018
सभी के लिए योग
100,000 से अधिक प्रतिभागियों के साथ भारत में सबसे बड़ा योग रिकॉर्ड बना
 
 
 
21 जून 2015
पहली बार
36,000 से अधिक भारत में पहली बार सामूहिक योग दिवस मनाया  गया ।
 
 
 
27 सितंबर 2014
भारत ने UNO में  प्रस्ताव रखा
नरेंद्र मोदी और भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस बनाने का प्रस्ताव रखा
 
 
 
200 ई.पू.
अभ्यास निरंतर जारी है
योग के अस्तित्व के लिए शुरुआती रिपोर्ट इस युग के आसपास निर्धारित की जाती हैं।
 
 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पूछे जाने वाले प्रश्न / INTERNATIONAL YOGA DAY FAQS

 
 

How can I begin to practice yoga?मैं योग का अभ्यास कैसे शुरू कर सकता हूं?

 
दोस्तों योग शुरू करने का कोई कठिन तरीका नहीं है। आजकल बहुत मात्रा में छोटे बड़े योग संस्थान ,केंद्र , कॉलेज व विश्वविद्यालय मौजूद हैं जिन्हे आप अपने नज़दीकी जगह पर सर्च करके योग अभ्यास शुरू कर सकते हैं। आप योग स्टूडियो या स्थानीय जिम भी  खोज  सकते हैं जहां पर योग प्रशिक्षक योग सिखाते हैं ,या फिर आप वीडियो ट्यूटोरियल का सहारा लेकर भी  घर पर अभ्यास कर सकते हैं।
 

What does Om mean? ओम का क्या अर्थ है?

 
ओम को ब्रह्मांड की ध्वनि का  मूल मन्त्र कहा जाता है, इस शब्द में ही अखिल ब्रह्माण्ड ब्याख्या छुपी हुई है । यह योग Class के lession  में  समाहित करने  का एक सरल  तरीका है, लेकिन यह अनिवार्य नहीं है।
 

What kind of equipment do I need to practice yoga?योग का अभ्यास करने के लिए मुझे किस तरह के उपकरणों की आवश्यकता है?

 
सबसे महत्वपूर्ण उपकरण लचीला एथलेटिक कपड़े और एक योग चटाई हैं। latter आवश्यक नहीं है और यदि आप इसे किसी फिटनेस सेंटर से कर रहे हैं तो आप उनके अनुसार या उनसे भी इसके बारे में पूछ सकते हैं या फिर आप अपने फिटनेस सेंटर से उधार भी ले सकते हैं; आप अपने आराम के अनुसार ही चटाई – मोटी या पतली ले सकते हैं जिससे आप योगा –  अधिक आनंद के साथ कर सकते  हैं।
 
 

 अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की मुख्य गतिविधिं या नियम

 

1. प्रकृति से जुड़ने के  लिए स्वयं को Tree Pose में  लाएं

 
दोस्तों यदि आप बाहर अभ्यास करते हैं तो आपको शुद्ध हवा तो मिलेगी ही साथ ही आप प्रकृति से भी सीधे तौर पर जुड़ पायंगे।  जैसे समुद्र तट पर, अपने स्थानीय पार्क में, या अपने घर के पिछवाड़े में भी अभ्यास कर सकते हैं  । नए परिवेश में अपने आप को  नई चीजों पर ध्यान केंद्रित करने से बहुत अधिक ध्यान या मुद्रा आकर्षक हो सकती है योग अभ्यास के लिए।
 

2. स्वयं को  “ओम” के उच्चारण में समाहित करें

 
अंदर के movements  ॐ शब्द के साथ  अपना flow बनाएं और धीरे धीरे उसमें खो जाएँ। या फिर  अपने पसंदीदा संगीत के लिए नए combinations तैयार करें और उसके अनुसार स्वयं को केंद्रित करें। संगीत योग अभ्यास में शरीर के अंदर होने वाले movements को केंद्रित करने में बहुत हद तक मदद करता है।
 

3. योगी जीवन शैली के लिए एक योग मित्र जरूर बनायें

 
यदि आप किसी सहायक या फिर किसी एक दोस्त के साथ अभ्यास शुरू करते हैं तो यह आपको सीखने में बहुत ही आसान बना सकता  है , वह आपको मोटीवेट भी करता जाएगा । जिससे आप तेज़ी से योग में अभ्यास करना सीखते हैं एवंम  योग  की विभिन्न मुद्राओं  को भी आसानी से एन्जॉय करते हैं।
 

5 योग FACTS

 

1. अमेरिका के बहुत से लोग योग का अभ्यास करते हैं

 
लगभग 36 मिलियन अमेरिकी नियमित रूप से योग करने का दावा करते हैं, मतलब लगभग 10% आबादी
 

2. सभी के लिए एक

 
योग की सौ से अधिक शैलियाँ हैं।
 

3. एक बड़ा सोशल मीडिया हिट भी है

 
किसी भी समय इंस्टाग्राम पर 60 मिलियन पोस्ट ट्रेंड कर रहे हैं।
 

4. 1982 में योगा मैट का आविष्कार किया गया था

 
विदेशी महिला एंजेला किसान ने आरामदायक, स्लिप-फ्री सतह बनाने के लिए कारपेट अंडरले का इस्तेमाल किया था ।
 

5 . यह बहुत ही प्रेरणादायक है सभी के लिए

 
योग के साथ अपने अनुभवों से उत्साहित, एलिजाबेथ गिल्बर्ट को सर्वश्रेष्ठ-विक्रेता “Eat Pray Love” लिखने के लिए प्रेरित किया गया था
 
 

हम क्यों अंतरराष्ट्रीय योग दिवस से प्यार करते हैं?

 

यह inclusive है

 
दोस्तों यह सभी आयु वर्ग, धर्मों, राष्ट्रीयताओं और सामाजिक पृष्ठभूमि के लोग  भी सेलिब्रेट कर सकते हैं, क्योंकि योग सभी के लिए सुलभ है। योग प्रथाओं के बहुत सारे सरल प्रकार मौजूद हैं, इसलिए किसी के लिए भी शुरू करना संभव है,आसान है । आकार और फिटनेस का स्तरआदि जैसी चीजों से कोई फर्क नहीं पड़ता  है। आप अपने अनुसार इसमें संशोधन कर सकते हैं और अभ्यास कर सकते हैं।
 

योग आपके तनाव को manage  करने में मदद करता है

 
जीवन कभी-कभी तनावपूर्ण हो सकता है, और यह हमारे भौतिक शरीर पर अपना प्रभाव भी डाल सकता है। पीठ या गर्दन में दर्द, नींद की समस्या और सिरदर्द है? नियमित योगाभ्यास मानसिक स्पष्टता, शांति, और पुराने तनाव से छुटकारा दिलाता है – जिसका अर्थ है कि यह उपरोक्त सभी में आपकी सहायता करेगा, स्वस्थ्य और प्रसन्न रखेगा।
 

योग का अभ्यास स्वस्थ है

 
यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है, योग रीढ़ को मजबूत और स्थिर करता है, पीठ दर्द, तनाव, चिंता और तनाव से छुटकारा दिलाता है। यह वजन घटाने, संतुलित चयापचय को बनाए रखने और लचीलेपन को बढ़ाने में मदद करता है। और ये केवल इसके कुछ लाभों में से एक हैं क्योंकि इसके लाभों  को गिनना बहुत ही कठिन है ।
 
 
दोस्तों आशा करते हैं यह लेख आपको काफी  सपोर्ट करेगा योग  हेल्थ के लिए। दोस्तों क्या आप भी योग करते हैं यदि  हाँ तो वह योग मुद्रा कोन सी है और उसके क्या लाभ हैं हमें कमेंट करके जरूर बताएं।
 
 

FAQ

दोस्तों योग शुरू करने का कोई कठिन तरीका नहीं है। आजकल बहुत मात्रा में छोटे बड़े योग संस्थान ,केंद्र , कॉलेज व विश्वविद्यालय मौजूद हैं जिन्हे आप अपने नज़दीकी जगह पर सर्च करके योग अभ्यास शुरू कर सकते हैं। आप योग स्टूडियो या स्थानीय जिम भी खोज सकते हैं जहां पर योग प्रशिक्षक योग सिखाते हैं ,या फिर आप वीडियो ट्यूटोरियल का सहारा लेकर भी घर पर अभ्यास कर सकते हैं।

ओम को ब्रह्मांड की ध्वनि का मूल मन्त्र कहा जाता है, इस शब्द में ही अखिल ब्रह्माण्ड ब्याख्या छुपी हुई है । यह योग Class के Lession में समाहित करने का एक सरल तरीका है, लेकिन यह अनिवार्य नहीं है।

सबसे महत्वपूर्ण उपकरण लचीला एथलेटिक कपड़े और एक योग चटाई हैं। Latter आवश्यक नहीं है और यदि आप इसे किसी फिटनेस सेंटर से कर रहे हैं तो आप उनके अनुसार या उनसे भी इसके बारे में पूछ सकते हैं या फिर आप अपने फिटनेस सेंटर से उधार भी ले सकते हैं; आप अपने आराम के अनुसार ही चटाई – मोटी या पतली ले सकते हैं जिससे आप योगा – अधिक आनंद के साथ कर सकते हैं।

Leave a Comment